सॉफ्टवेर क्या है और उसके प्रकार

By | May 12, 2020
software kya hai

Computer software in hindi – जब हम किसी भी Digital मशीन में कोई कार्य करते है अपने सोचा है , वो कार्य कैसे होता है .  software के द्वारा ही वो कार्य सम्पादित किये जाते है .  क्या आपको पता है  Internet ब्राउज़र भी एक software है.

सॉफ्टवेर और हार्डवेयर के भागो  को भी नियंत्रित करने के लिये सॉफ्टवेर का इस्तेमाल किया जाता है. पर क्या आप जानते है  Software kya hai  (सॉफ्टवेर क्या है ?) .

दोस्तों सॉफ्टवेर नियम और निर्देशों का समूह होता है. software का उपयोग मशीन के कार्य और उसके उपयोग के आधार से अलग अलग बनाये जाते है. बिना सॉफ्टवेर के कोई भी Digital मशीन बस एक कचरे का डब्बा होता है, जो unused होता है. computer software के बिना कोई भी कार्य हम कंप्यूटर में नहीं कर सकते.

आज बाजार में और इन्टरनेट में बहुत प्रकार के Computer Software उपलब्ध है, जो कई विशेष कार्यो के लिए बनाये गए है. दोस्तों बहुत सारे प्रश्न आपके दिमाग में उठ रहे होंगे , आखिर कंप्यूटर में सॉफ्टवेर क्यों अवश्यक है. तो चलिये विस्तार से जानते है की कंप्यूटर सॉफ्टवेर क्या है ?.

सॉफ्टवेर क्या है – ( What is Computer Software)

Software– प्रोग्रामो, नियम तथा instruction के समूहों का एक गुच्छा है, जो Computer System के कार्यो को नियंत्रित करता है. कंप्यूटर के विभिन्न हार्डवेयर के बीच Cordination स्थापित कर विशेष कार्यो को करने का दिशा-निर्देश देता है. Software ही Hardware को यह बताता है की उसे क्या करना है, कैसे करना है और कब करना है .

सॉफ्टवेर Computer का वह भाग है जिसे हम ना तो देख सकते है ओर ना ही छू सकते है. वास्तव में ये मशीन का Logical भाग होता है जिसे हम Physicaly छू नही सकते पर बिना छूवे कार्य कर सकते है, क्योकि हमें Software का अभाषी (Logical)  दिखाई देता है.

हम सॉफ्टवेर के अभाषी  रूप के अन्दर ही सारे कार्य करते है और कंप्यूटर को Instruction दे सकते है.

एक Computer के लिये अगर Hardware इंजन है तो Software उस इंजन के ईंधन के रूप में कार्य करता है. किसी भी Digital machine के लिये उसका  Program, Application या सॉफ्टवेर, सब एक ही चीज होता है.

Computer Software के जरिए ही user या उपयोगकर्ता के बीच संपर्क हो पाता है. Computer Software ही उपयोगकर्ता को कार्य करने का interface देता है.  सॉफ्टवेर  के जरिये ही कंप्यूटर को कार्य करने का निर्देश दिया जाता है.

प्रोग्राम क्या है (What is Computer Program)

Computer Software  या  Program एक ही चीज है. बस किसी खास या निश्चित कार्य को पूरा करने के लिए बनाया गया अनुदेशों का समूह प्रोग्राम (Program) कहलाता है. ये operating software से भिन्न होता है.

प्रोग्रामर किसे कहते है ? or Programmer kya hai

Programmer कंप्यूटर सॉफ्टवेर का Master या Software Enginner होते है. जो कंप्यूटर में कार्य को होने या पूरा करने के लिए विशेष Code या प्रोग्राम बनाते है. Programmer का कार्य Computer Software Devlope करना, उसकी Testing करना तथा उसमे Bug (खामी) की पहचान कर उसमे सुधार (Debugging) करना है.

एक Computer Programmer मशीन Level Language का जानकर होता है.

Executable Program क्या है (computer software in Hindi)

Computer Programmer के द्वारा बनाये गए Program या सॉफ्टवेर जो CPU के द्वारा कार्य करे और कार्य का सही सही परिणाम दे, Excutable Program कहलाता है. जिसे  हम .exe File कहते है.

.exe  इसका एक्सटेंशन फाइल नाम होता है.

वास्तव में Computer में Install होने वाले  Software  जिसे Run करने की आवश्यकता होती है और जो HDD के Local Disk C: में store होता है वही File, Excutable File or Program होता है.

सॉफ्टवेर के प्रकार (Types of Computer Software)

कंप्यूटर सॉफ्टवेर के तीन मुख्य प्रकार है –

  1. सिस्टम सॉफ्टवेर  (System Software)
  2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेर  (Application Software)
  3. यूटिलिटी सॉफ्टवेर  (Utility Software)

1. सिस्टम सॉफ्टवेर (System Software)

Computer के मूलभूत कार्यो को संपन्न करने तथा उन्हें कार्य करने के लायक बनाये रखने के लिये तैयार किये गये प्रोग्रामो के समूह को System Software कहते है. सिस्टम सॉफ्टवेर user और computer के बीच कार्य करने का रास्ता प्रदान करता है. सिस्टम सॉफ्टवेर के बिना Computer सिर्फ एक मशीन का ढांचा है. कोई भी Application या Program सिस्टम सॉफ्टवेर के बिना नहीं चल सकती. यह Computer के लिये आवश्यक सॉफ्टवेर है.

EX. – DOS, Windows (XP, 7, 8, 10), Linux, Unix, Macintosh, ios, Android आदि.

सिस्टम सॉफ्टवेर के प्रकार  (Types of System Software)

System Software को मुख्य रूप से दो भागो में बाँटा गया है –

  1. ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System)
  2. लैंग्वेज ट्रांसलेटर (Language Translator)

ऑपरेटिंग सिस्टम – Operating System (Computer Software)

Oprating system प्रोग्रामो का वह समूह है जो Computer system तथा उसके विभिन्न भागो के कार्यो को नियंत्रित करता है . OS , user / उपयोगकर्ता और Computer के बीच सम्बन्ध स्थापित करने का कार्य करता है. कंप्यूटर को start /ON करने के लिये तथा Computer Hardware को सही रूप से कार्य करने के लिए OS अवश्यक सॉफ्टवेर है.

मुख्यत दो प्रकार के Operating system software मार्केट में बहुत प्रचलित है –

GUI System software (Graphical User Interface) – Windows (XP, 7, 8, 10), Linux, Unix, etc.

CUI system software (Command Line / Character User Interface) – DOS, Linux, Unix, etc.

“Mobile और Smart phone में Android Operating System software  का प्रयोग बहुत प्रचलित है”  

लैंग्वेज ट्रांसलेटर – Language Translator (computer Software)

जैसा की नाम से ही पता चलता है की ये Language Translator ये भाषा को बदलता है. कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो सिर्फ Binary digit ( 0 , 1 ) को समझता है, इसे machine Level Language भी कहते है.

पर Binary Code से Computer Software बनाना आसान नहीं है, इसलिए  software  बनाने के लिए  High Level Language का प्रयोग किया जाता है. इसी हाई लेवल लैंग्वेज को ट्रांसलेटर सॉफ्टवेर के जरिये, मशीन लेवल लैंग्वेज में बदला जाता है .

कोई भी Operating System Software में LLL ( Low Level Language ) का प्रयोग होता है, तथा Application Software में  HLL (High level language ) का प्रयोग किया जाता है.

लैंग्वेज ट्रांसलेटर सॉफ्टवेर के प्रकार – (Types of Language Translator computer software)

  • असेम्बलर (Assembler)
  • कम्पाइलर (compiler)
  • इंटरप्रेटर (Interpreter)

असेम्बलर (Assembler)

Assembler एक लैंग्वेज Transletor software है, जो Low level language में लिखे Program या कोड को मशीन भाषा में बदलता है.

कम्पाइलर (Compiler)

Compiler येसा Language Transletor Software है , जो High level language में लिखे code या Program को मशीन भाषा में बदलता है.

इंटरप्रेटर (Interpreter)

Interpreter भी लैंग्वेज ट्रांसलेट सॉफ्टवेर है, जो HLL में लिखे गये  Code Program को एक एक लाइन करने मशीन भाषा में बदलता है. कोई भी Computer Software  इंटरप्रेटर से गुजर कर ही कार्य करता है.

Interpreter Programing code में हुवे गलती को एक एक line करके दिखता है,  जिससे कोड में सुधार करना आसन हो जाता है.

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेर (Application Software)

किसी विशेष या खास कार्य करने के लिए बनाये गये Computer Software को Application Software या App कहा जाता है. एप्लीकेशन सॉफ्टवेर System Software को ध्यान में रख कर बनाये जाते है, जो सिस्टम सॉफ्टवेर के ऊपर ही Run करते है.

Application Software के प्रकार

User के कार्य और उपयोगिता के आधार पर Application Software को दो भागो में बाँटा गया है –

  • Customised Application Software
  • General Application Software

Customised Application Computer Software

ये  User की विशेष अवाश्यक्ताओ को ध्यान में रखकर बनाये गये खास Computer Software होते है. इस प्रकार के सॉफ्टवेर  Govt. Sector  के लिये  उपयोगी होते है.

जैसे – रेलवे Reservation Software, मौसम विश्लेषण का software , Airoplan के control software etc.

General Application computer Software

ये user की विशेष जरुरत की पूर्ति के लिए बनाये जाने वाले Computer Software है. जिसका इस्तेमाल अनेक User कर सकते है. ये व्यक्तिगत कार्यो के लिए खास रूप से तैयार किये जाते है.

जैसे – Microsoft Office , Web Browser , media Player , Tally , Photoshop , CAD , DBMS etc.

3. यूटिलिटी सॉफ्टवेर (Utility Software)

कंप्यूटर की कार्य कुशलता को बढ़ाने के लिये बनाये गये Computer Software यूटिलिटी सॉफ्टवेर कहलाते है. इसका उपयोग कंप्यूटर की अशुद्धियो को दूर करने और कार्य को सरल बनाने के लिए किया जाता है.

Utility Software के प्रकार ( computer software)

  • Disk Formatting software
  • Backup Program
  • Antivirus Software
  • Data / File Compression Software
  • File Manager etc.

सॉफ्टवेर पैकेज क्या है -What is Software Package

बहुत सारे Computer Software  का समूह जिसे user एक साथ इस्तेमाल कर सकता है और सारे कार्य एक ही सॉफ्टवेर में अन्दर ही कर सकता है, उसे Software Package कहत्ते है. इसमे बहुत सारे सॉफ्टवेर की विशेषताओं को एक ही सॉफ्टवेर  के अन्दर डाल दिया जाता है.

जैसे – Microsoft Company ने Microsoft Office Package बनाया है. जिसमे बहुत सारे software साथ में दिए गए है – ms-Word, ms-Excel, ms-Powerpoint , ms-Publishers etc.

शेयर वेयर -share Ware 

Computer Software Program  जिसे बिना ख़रीदे एक निश्चित समय तक प्रयोग किया जा सकता है. लेकिन समय अवधि समाप्त होने के बाद खरीदना पड़े वैसे software Share Ware कहलाते है. Internet में Share ware सॉफ्टवेर आसानी से मिल जाते है.

फ्रीवेयर -Freeware 

वैसा Computer Software जो Internet के द्वारा free में मिल जाता है, जिसके लिये कोई शुल्क नही देना पड़ता है, Freeware software कहलाता है.

रिटेल सॉफ्टवेर 

वैसे computer Software जो बाजार में बिक्री के लिए उपलब्ध होते है. जिसे CD / DVD के रूप में ख़रीदा जा सके Retail सॉफ्टवेर कहलाते है. जैसे – microsoft office , Tally ERP 9 ,corel draw etc.

Debugging Software 

Computer software  में पायी जाने वाली गलती (bugs) को Search करके गलती में सुधार करने वाले सॉफ्टवेर को debugging software कहते है . ये Syntex error और Logical error में सुधार करते है.

ग्रुप वेयर (Group Ware)

वैसा software जिसका इस्तेमाल बहुत सरे व्यक्तियों के Group में किया जाता है. जिसे व्यक्तियों के सुविधा के अनुसार विकसित किया जाता है, Group Ware Software कहलाता है.

जैसे – google Chat , E-mail , voice mail , Video conferencing, facebook, whatsapp etc.

Conclusion

Computer Software kya hai, सम्बंधित सारी जानकारी उम्मीद है, आपको इस पोस्ट Software kya hai में मिल गयी होगी. दोस्तों मुझे पूर्ण विश्वास है की आपके सभी प्रश्नों के उत्तर आपको इस पोस्ट में मिल गयी होगी. सॉफ्टवेर क्या है और उसके प्रकारों के बिषय में यदि कोई जानकारी हमसे छुट गयी होतो, कृपया Comment करके हमें जरुर बताये.

आपके द्वारा किये गए comment के आधार पर बदलाव करने में हमें बहुत ख़ुशी होगी .     ( धन्यवाद )

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *