DBMS क्या है ? (Database Management System in Hindi)

By | April 27, 2020
dbms kya hai

DBMS -Database Managment System in hindi में आज आपको DBMS से सम्बंधित आपके सारे प्रश्नों के उत्तर मिल जायेंगे. Database की जितनी जरुरत  छोटी – बड़ी सभी कंपनियों को होती है , सरकार को भी Database की जरुरत होती है . जिसके लिए वो database के Expert को Hire करते है. जो डाटा से सम्बंधित कार्य के लिये DBMS सॉफ्टवेर का use करते है.

डाटा को manage करने के लिये सॉफ्टवेर की आवश्यकता होती है. पर क्या आप जानते है, किस सॉफ्टवेर की आवश्यकता होती है. तो चलिए जानते है DBMS क्या है? और इसके प्रकार ,Use of DBMS और इससे Related बातो को.

 

dbms kya hai

DBMS क्या है (What is DBMS in Hindi)

DBMS का पूरा नाम डाटा बेस मैनेजमेंट सिस्टम (Database Managment System) है . Database Managment System   एक software Program है. ये  डिजिटल डाटा (Digital Data) को Systematic Order में व्यवस्थित करने उसमे Update रखने, डाटा का साझा उपयोग करने, पुराने डाटा को मिटाने, Data को Unauthorized User से सुरक्षित करने तथा New Data Store करने का कार्य करता है.

डाटा बेस मैनेजमेंट सिस्टम – DBMS कंप्यूटर का द्वारा  Data  को एक स्थान पर स्टोर करने तथा अनधिकृत उपयोगकर्ता द्वारा उनका उपयोग करने की व्यवस्था है. डाटा बेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) अनेक अधिकृत उपयोगकर्ताओ को अलग अलग उद्देश्य के लिए डाटा व सूचना साझा करने की सुविधा उपलब्ध करता है.

 

डाटा बेस एडमिनिस्ट्रेटर क्या है (What is Database Administrator)

Database Administrator  वह व्यक्ति या Company/Organization है, जो कंप्यूटर के उपयोग के लिए डाटा Store करने, सही field में डाटा स्टोर करने, Update , Unauthorized User से डाटा को Secure रखने तथा End User  को आवश्यकतानुसार उपयोग के लिए Data उपलब्ध करने से सम्बंधित Work करता है. Database Administrator  का सम्पूर्ण डाटा पर Control होता है.

जो डाटा का निर्माण तथा संचालन करता है DBMS Administrator कहलाता है.

 

DBMS के कार्य (Function of DBMS in Hindi)

डाटा रीडन्डेन्सी या डाटा की पुनरावृत्ति (Data redundancy or data replication)

यदि एक ही Data को एक से अधिक स्थानों पर Store किया जाता है, तो इसे डाटा रीडन्डेन्सी (Data redundancy) कहा जाता है. इससे डाटा की पुनरावृत्ति (replication) होती है, डाटा में गडबडी  होने की सम्भावना रहती है तथा Storage Capacity की हानी होती है.

यदि किसी कंपनी के Database में Employee का Details एक से अधिक जगहों पर Store किया गया है, तो इसे Data redundancy कहा जाएगा. Database managment system में data एक ही स्थान पर स्टोर किया जाता है जिससे डाटा रीडन्डेन्सी कम होती है.

 

डाटा इनकनसीसटेंसी या डाटा विसंगति (DBMS Data Inconsistency in Hindi)

एक ही तरह का Data अलग अलग स्थानों पर होने  से एक ही विषय पर दो अलग अलग परिणाम प्राप्त हो सकते है. इसे ही Data Inconsistency कहते है.

अगर कोई Company किसी Staff को Payment करती है और उसका Record दो जगहों पर रखती है.पर वो update एक ही जगह करती है तो एक ही डाटा के दो अलग अलग मान प्रदर्शित होंगे. DBMS में डाटा की पुनरावृति (Data redundancy) को रोक कर डाटा विसंगति (Data Inconsistency) समाप्त किया जाता है.

 

डाटा सुरक्षा (DBMS Data Security in Hindi)

डाटा सुरक्षा का meaning है – डाटा को Unauthorized User की पहुँच से दूर रखना. ताकि डाटा में गलत तरीके से परिवर्तन न किया जा सके और न ही Data को नष्ट किया जा सके.

बिना Permission  के DBMS किसी भी user को डाटा तक पहुचने नहीं देता है वो पहले user की Permission को  जाँच करता है.

 

डाटा की विश्वसनीयता (DBMS Data Integrity in Hindi)

Database में प्रत्येक डाटा का मान सही तथा विश्वसनीय होना चाहिए. database software  किसी डाटा के असंभव मानो की जाँच करता है, मतलब की Database Managment System में data integrity की जाँच होती है.

 

आत्मनिर्भर डाटा (DBMS Data Independance in Hindi)

Database में स्टोर किये गए डाटा का प्रत्येक मान एक दुसरे से स्वतंत्र होता है . मतलब यह की कोई भी Authorized User ,Program data के किसी भाग का Independance रूप से उपयोग करने में सक्षम होता है.

 

डाटा की गोपनीयता (DBMS Privacy of Data)

Database में डाटा की Privacy बनाये रखने के लिए यह निर्धारित किया जाता है कि कौन, किस डाटा को Access और  Change कर सकता है. इस प्रकार किसी महत्वपूर्ण (Important) या व्यक्तिगत डाटा की गोपनीयता सुनिश्चित की जाती है.

 

डाटा बेस की प्रकृति (Nature and Role of DBMS)

  1. डाटा बेस में डाटा redundancy तथा data Inconsistency न्यूनतम होनी चाहिए.
  2. अलग अलग  उपयोगकर्ताओ द्वारा अलग अलग उद्देश्यो में प्रयोग के लिए उपलब्ध होनी चाहिए.
  3. डाटा का प्रत्येक मान एक दुसरे से स्वतंत्र तथा प्रत्येक डाटा का मान सही होना चाहिये.
  4. Un Authorized User से सुरक्षित होना चाहिये .

 

DBMS से Related महत्वपूर्ण  बाते

database management system से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण चीजों को बिना जाने आप DBMS को अच्छी तरह से नहीं समझ सकते. इसके कुछ important और necessary पहलु है.

Bit  : Digital data की सबसे छोटी और मूल इकाई Bit या Binary Digit (0 or 1) है. कोई  भी डाटा कंप्यूटर Memory में Bit के रूप में ही store होती है.

Character  : कैरेक्टर वह सबसे छोटी और मुलभुत इकाई है जिसे मनुष्य समझ सकता है. किसी भी character का Development 8 bit या 1 Byte से ही होती है और ये करैक्टर की सबसे small unit है.

Field : database में Original डाटा के मान जिस स्थान पर Store किये जाते है, उन्हें Field  कहते है. Field Characters का Meaningful Collection होता है. डाटा प्रोसेसिंग में फिल्ड सबसे small Logical Unit है, Meaningful होता है.

Record  :  एक ही Subject पर अलग अलग Field  में स्टोर किये गए डाटा के Collection को Record कहा जाता है.

File  :  बहुत सारे Records का Group, File कहलाता है. File में प्रत्येक Record एक ही Field द्वारा पहचाना जाता है.

Attributes  : टेबल या रिलेशन का कॉलम Attributes कहलाता है.

Cardinality  : किसी टेबल या Relational में Row या Tuple की संख्या उसकी Cardinality कहलाती है .

View  :  व्यू एक आभासी टेबल होता है.      

Database  :  File के  Group डाटाबेस कहलाता है. डाटाबेस में सभी फाइलें एक-दुसरे से जुडी Link  होती है. इसलिए डाटाबेस के किसी एक Field में किया गया Changing सभी सम्बंधित File में दिखाई देता है.

 

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के डाटा मॉडल (Models of DBMS in Hindi)

Relational data model

इसमें डाटा को Table के Collection के रूप में Arrange किया जाता है. एक  Table में Row तथा Column होते है. इन Tables को Relational भी कहा जाता है. Table के Collection को  Row tuple कहते  है. और  Column को Attributes कहा जाता है. इसमे Structure Query Language के Software  का प्रयोग किया जाता है.

 

Network Data Model

Network डाटा मॉडल में डाटा को Record के collection के रूप में व्यवस्थित किया जाता है. रिकॉर्ड आपस में Linked होते है.

 

Hierarchy Data Model

Hierarchy Data Model में भी डाटा को रिकॉर्ड के संग्रह के रूप में व्यवस्थित किया जाता है, परन्तु सभी रिकॉर्ड आपस में एक Sequence से जुड़े रहते है. इसमे Data Manipulation Language सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है.

 

डाटा बेस सॉफ्टवेयर की भाषा (Language of DBMS Software in Hindi)

डाटा बेस सॉफ्टवेयर में उपयोग होने वाली Language कुछ इस प्रकार से है –

Data Definition Language : यह डाटा के प्रकार और उनके बीच संबंध को परिभाषित करता है.

Data Manipulatio Language : डाटा बेस में डाटा डालने, उसे Edit करने तथा Delete करने में   सहायक है.

Query Language  : डाटा बेस से Information खोजने तथा प्राप्त सूचना को उचित रूप में प्रदर्शित करने का काम करता है.

structured Query Language (SQL) उपरोक्त तीनो कार्यो को एक साथ करने में सक्षम डाटा बेस लेंग्वेज है.

 

DBMS Software

Oracle, Microsoft SQL Server, Microsoft Access, My SQL, RDBMS, etc. 

 

Conclusion

मुझे पूर्ण विश्वास है आपको DBMS से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी हमारी इस पोस्ट DBMS in Hindi से मिल गई होगी. और आप  DBMS  की भाषा, कार्य और use होने वाले सॉफ्टवेर के विषय में जान गए होंगें.

तो दोस्तों technicalmiki के इस पोस्ट DBMS in Hindi को आप अपने दोस्तों तथा ग्रुप में जरुर शेयर करे.   (धन्यवाद)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *