Multimedia Explanation in Hindi

By | May 5, 2020
multimedia

Multimedia मल्टीमीडिया  ने  समाज में  आज एक  क्रन्तिकारी  परिवर्तन लाया है . Online Shoping  इसका उदाहरण हो सकता है. Multimedia के बढ़ते उपयोग ने आज रोजगार के कई नये अवसर भी खोल दिए है.

अगर आप movie dekhne के शोकिन है, फिर अपने Bahubali movie in Hindi duabe देखी ही होंगी . पुरे movie में Graphics मल्टीमीडिया का इस्तेमाल किया गया है . 

आज हम जो newspaper  पढ़ते है. मनोरंजन के लिए TV (Telivision) पर News , Movie और Serials देखते है . सब multimedia के ही अंतर्गत तो आते है. multimedia ने तो Gameing का रूप ही बदल दिया है , चाहे मोबाइल गेम हो या कंप्यूटर गेम . आप Pubg Game ही देख लो कितना मजेदार गेम है पूरा गेम  Graphics Multimedia से बना है .

आज के समय में Advertising से लेकर बड़े बड़े Experiment करने के लिये हम Multimedia का उपयोग करते है. मल्टीमीडिया का मीडिया तो डिजिटल डिवाइस है . इसको हम विस्तार से समझते है Multimedia के माध्यम क्या है ? और इसके लिए अवश्यक सामग्री क्या है ? .

Computer  के माध्यम से  मल्टीमीडिया का बिस्तार हुवा है . Multimedia  में  computer  एक माध्यम है .

आज के इस पोस्ट में हम मल्टीमीडिया क्या है और उसके तत्वों से सम्बंधित सभी बातो की जानकारी आपके सामने रखने वाले है . उम्मीद है आपके मन में आने वाले सभी प्रश्नों के जवाब आपको इस पोस्ट में मिल जायेंगे.

“Multimedia Kya hai”  

Multimedia अंग्रेजी के Medium शब्द का बहुवचन है. Medium का अर्थ है – माध्यम. किसी भी सुचना को किसी माध्यम द्वारा ही प्रस्तुत किया जा सकता है. और  जिस सुचना को प्रस्तुत करने के लिए एक साथ एक से अधिक माध्यम का प्रयोग किया जाता है, उसे Multimedia (मल्टीमिडिया ) कहा जाता है. मल्टीमिडिया कंप्यूटर तथा उपयोगकर्ता के बीच दो तरफ़ा संवाद स्थापित करता है. multimedia के media बहुत सारे हो सकते है, जिनका की हम प्रयोग दैनिक जीवन में करते है जैसे – Text , Image , Photo , Animation , Sound , Video इत्यादि.  

Multimedia डाटा को कंप्यूटर में Store करने के लिए अधिक  Memory  की आवश्यकता होती है. जबकि इन्हें Play करने के लिए तीव्र प्राथमिक मेमोरी तथा उच्च गति का प्रोसेसर जरुरी होता है.

 

किसी सुचना को प्रस्तुत करने के माध्यम  (Multimedia in hindi)

Text (टेक्स्ट)     – अक्षरों, अंको, तथा स्पेशल केरेक्टर के माध्यम से सुचना का प्रस्तुतीकरण.

Graphics (रेखाचित्र) – लाइनों से बने चित्र

Photo (चित्र)    – पिक्सेल द्वारा तैयार चित्र

Animation (एनीमेशन) – रेखाचित्र द्वारा बने गतिमान प्रतीत होते चित्र

sound (आवाज) – ध्वनी संकेत

Video (वीडियो) – घटनाओ की गतिमान प्रस्तुति

 

मल्टीमिडिया के आवश्यक उपकरण (Multimedia Essential tools)

Multimedia  के लिये Minimum भोतिक हार्डवेयर की सूची जो Multimedia के लिये उसके अवश्यक उपकरण है .

  1.  एक कंप्यूटर
  •  64 मेगाबाइट क्षमता की मुख्य मेमोरी (Minimum)
  •  वीडियो कार्ड (Video Card)
  •  ऑडियो कार्ड (Audio Card)
  •  स्पीकर (Speaker)
  •  सीडी रोम या डीवीडी ड्राइव ( CD Rom or DVD Drive)
  •  एमपीजी कार्ड (Mpeg Card)
  •  मल्टीमिडिया सॉफ्टवेर (Multimedia Software)
  •  माइक तथा वेब कैमरा (Mike and Web-came)

मल्टीमिडिया के तत्व  (Components of Multimedia in Hindi)

Text (टेक्स्ट)

टेक्स्ट अक्षर, अंक तथा विशेष चिन्हों के माध्यम से सुचना को प्रस्तुत करते है. Text को ग्राफिक्स, चित्र, आवाज या Animation के साथ जोड़ा जा सकता है. टेक्स्ट को अलग अलग Color , Font तथा 3D Animation Effect  द्वारा और अधिक प्रभावी बनाया जा सकता है.

Image or Graphics (चित्र या रेखाचित्र)

Multimedia  में Image  या Graphics का भी प्रयोग किया जाता है. कंप्यूटर में इसे Digital data के रूप में स्टोर किया जाता है. इसे स्टोर करने के लिए कुछ प्रचलित सॉफ्टवेर है –

GIF  (ग्राफिकल इंटरचार्ज फॉर्मेट) : इसमें 8 Bit  कलर इमेज का प्रयोग होता है.

 

JPEG (ज्वाइंट फोटोग्राफिक एक्सपर्ट ग्रुप) : इसमें 24 Bit  कलर इमेज का प्रयोग किया जाता है. 24 Bit कलर true कलर कहलाता है.

 

Bitmap Graphics (बिटमैप ग्राफिक)

बिटमैप ग्राफिक में चित्र या रेखाचित्र को Bits तथा Pixels में विभाजित कर कंप्यूटर पर स्टोर किया जाता है. Scanner  तथा Digital Camera के चित्र Bitmap Graphics  में स्टोर किये जाते है. कुछ प्रचलित बिटमैप ग्राफिक्स सॉफ्टवेर है – Adobe, Photoshop , Corel Draw, 3D Studio आदि.

Vector Graphics (वेक्टर ग्राफिक)

वेक्टर ग्राफिक में चित्र या रेखाचित्र बनाने के लिए गणितीय अक्ष का प्रयोग किया जाता है. इससे ग्राफिक में बार बार परिवर्तन करना आसान होता है. इसका उपयोग Cartoon (कार्टून) बनाने तथा एनीमेशन में किया जाता है. इससे ग्राफिक्स में बार बार परिवर्तन करना आसान होता है. CAD (कंप्यूटर एडेड डिज़ाइन) तथा CAM (computer added Manufacturing ) में कंप्यूटर ग्राफिक्स का उपयोग कंप्यूटर द्वारा डिज़ाइन व चित्र तैयार करने में किया जाता है.

Sound (ध्वनि)

वे ध्वनि तरंगे जिन्हें हम सुन सकते है ध्वनि (Sound) कहलाते है. ध्वनि को Audio संकेत कहा जाता है. ऑडियो Multimedia का अभिन्न अंग है. ऑडियो संकेतो का आवृति परास 200 Hz (हर्ट्ज) से 3200 Hz तक होता है जबकि मनुष्य 20 Hz से 20 किलो Hz आवृति की ध्वनि सुन सकता है.

ऑडियो Analog संकेत होता है, इसे Microphone द्वारा विद्युत् तरंगो में बदला जाता है. इन विद्युत् तरंगो को Digital data  में बदलकर कंप्यूटर में Store किया जाता है. इस डिजिटल ऑडियो को सुनने के लिए इन्हें विद्युत् तरंगो में बदला जाता है.

Speaker / Headphone इन विद्युत् तरंगो को एनालोग ध्वनि तरंगो में बदलते है जिसे हमारे कान सुन पाते है. कंप्यूटर द्वारा कृत्रिम डिजिटल ऑडियो डाटा तैयार किया जा सकता है जिसे हम स्पीकर /हेडफोन के जरिये सुन सकते है. इसके लिए Computer Sound card ki आवस्यकता होती है. Multimedia कंप्यूटर ऑडियो डाटा उत्पन्न करने, इन्हें Record तथा Play करने में सक्षम होता है.

कुछ प्रचलित ऑडियो फ़ाइल फॉर्मेट है – (About Multimedia in hindi)

Mp3

Wav

MIDI

 

Video (वीडियो)

Multimedia  कंप्यूटर वीडियो चित्रों की श्रंखला रिकॉर्, एडिट, स्टोर तथा प्ले कर सकता है. जिसे कंप्यूटर Monitor पर देखा जा सकता है. इसके लिए कंप्यूटर में कार्ड (video card) का इस्तमाल किया जाता है. आजकल मल्टीमिडिया कंप्यूटर का उपयोग मनोरंजन के क्षेत्र में वीडियो रिकॉर्ड करने वीडियो चित्र देखने तथा वीडियो गेम आदि में किया जा रहा है.

 

वीडियो डाटा स्टोर करने के लिए कुछ प्रचलित  Multimedia फ़ाइल फॉर्मेट है 

  1. AVI (Audio Video Interleave)
  2. FLV  (Flash video format)
  3. WMV  (Windows Media Video)
  4. MOV  ( Apple Quick time Movie)
  5. MP4  (Moving Picture Expert Group )

 

Strumming (स्ट्रीमिंग)

इस तकनीक द्वारा Audio/Video फाइल को छोटा(Compress) कर दिया जाता है जिससे वह काम स्थान घेरती है. इसके अतिरिक्त, फाइल को तुरंत ही Play कर दिया जाता है. जब फाइल Play हो रही हो, उसी दौरान फाइल के बाकी हिस्से भी Downlode होते रहते है. इस प्रकार, फाइल का प्रयोग करने के लिए पूरी फाइल के डाउनलोड होने तक इन्तेजार नही करना पड़ता है. इसे स्ट्रीमिंगकहते है youtube Video Strumming का एक प्रचलित उदहारण है.

ऑडियो / वीडियो डाटा की फाइल काफी Memory घेरती है तथा Internet पर इसके स्थानांतरण होने में काफी समय लगता है. सामान्यत: डाउनलोड में Data का इस्तेमाल तभी किया जा सकता है जब फ़ाइल को पूरी तरह स्थानांतरित कर दिया गया हो. इस समस्या के समाधान के लिए strumming Technology का प्रयोग किया जाता है.

 

Multimedia Kiosks (मल्टीमिडिया कियोस्क)

Kiosks का उपयोग सार्वजनिक स्थलों जैसे – रेलवे स्टेशन, Airport, अस्पताल, पर्यटन स्थल, Hotels आदि पर उपयोगी जानकारी देने के लिए किया जाता है. इसमें कंप्यूटर स्क्रीन पर स्थित ग्राफिक यूज़र इंटरफ़ेस (GUI) वाले आइकॉन को अंगुलियों से छुकर संग्रहित सुचना प्राप्त की जा सकती है. इसमें सुचना को टेक्स्ट, इमेज, एनीमेशन, साउंड या वीडियो या इनके सम्मलित रूप में प्रकट किया जा सकता है.

Kiosks एक इंटरएक्टिव Multimedia computer है.

 

Multimedia Animation  

स्थिर रेखाचित्रो का समूह जिसे एक के बाद एक लगातार इस तरह दिखाया जाता है, की चित्र में गति का आभास हो, Animation कहलाता है. Animation में चित्रों की एक श्रंखला होती है, जिसमे प्रत्येक Image को एक निश्चित समयान्तराल के बाद अगले image से प्रतिस्थापित कर दिया जाता है ताकि चित्र गतिमान दिखाई पड़े. इसके लिए एक सेकंड में कम से काम 25 से 30 क्रमबद्ध चित्र दिखाना पड़ता है.

एनीमेशन का उपयोग Advertisements, Cartoon Films, Video Games, Movies  तथा Virtual Reality  आदि में किया जाता है. Animation का प्रयोग सामान्यत: उन प्रभावों को दर्शाने के लिए भी किया जाता है जहाँ वीडियोग्राफी Possible नही है.

एनीमेशन के लिए 3D Studio, Animator Studio , Adove Photoshop  आदि सॉफ्टवेर का प्रयोग किया जाता है. एनीमेशन वीडियो को MPEG फाइल फॉर्मेट में स्टोर किया जाता है.

 

Virtual Reality  (वर्चुअल रिअलटी)

कंप्यूटर द्वारा Multimedia का प्रयोग कर चारो ओर ऐसा वातावरण तैयार किया जाता है जिससे उसे वास्तविक स्थिति जैसा आभास हो. इसे कृत्रिम वास्तविकता या Virtual Reality कहा जाता है.

Virtual Reality में  त्रिविमीय तस्वीर तथा सराउंड साउंड का भी उपयोग किया जाता है इसका प्रयोग ट्रेनिंग सिमुलेटर तैयार करने में किया जाता है.

Adove Flash (एडोब फ्लेश)

यह shock Web की तरह ही Web-page पर मल्टीमिडिया Object डालने की एक तकनीक है, जिसे एडोब Adove Flash Player द्वारा देखा जा सकता है.

Shock Web (शॉक वेब)

यह मैक्रोमीडिया इंक. कंपनी द्वारा विकसित एक तकनीक है जिसका प्रयोग कर Web-Page  में  मल्टीमिडिया Object डाला जा सकता है. शॉक वेब प्रोग्राम को Shock wave plug-in  सॉफ्टवेर द्वारा देखा जा सकता है.

 

मल्टीमिडिया के उपयोग  : ( uses of multimedia in hindi)

1. शिक्षा (Education)   शिक्षा की रोचक और Intractive  बनाने के लिए मल्टीमिडिया का उपयोग किया जाता है Vertual Classes तथा E-Learning  में Multimedia का प्रयोग किया जा रहा है.

2.  मनोरंजन (Intertainment) – फिल्म देखने, वीडियो गेम खेलने, एनिमेशन तथा कार्टून फिल्म के निर्माण में मल्टीमिडिया का प्रयोग किया जाता है.

3. प्रशिक्षण (Training) – Multimedia का उपयोग खेल, कला, ड्राइविंग जैसे अनेक क्षेत्रो में प्रशिक्षण के लिए किया जाता है.

4. व्यापर (Bussiness) – व्यापर के क्षेत्र में आकर्षक विज्ञापन तैयार करने में Multimedia का उपयोग किया जाता है .

 

Multimedia के लाभ

  • Multimedia के उपयोग से किसी भी चीज को चाहे वो Physical या Logical हो उसे देखने , पढने , सुनने , लिखने और छूने में बड़ा ही User Friendly or flexible  बना दिया है .
  • जिससे समाज के हर वर्ग के लोगो तक Multimedia के द्वारा पहुच संभव है. मल्टीमीडिया का उपयोग करना बड़ा ही आसन है, आज पूरा मानव जाती इसका उपयोग कर रही है.

  • बड़े बड़े शहरो से लेकर छोटे छोटे गावों तक आज पहुच पाना Multimedia के करण संभव हो पाया है. Online Shoping के बड़ते प्रचलन में Multimedia का बहुत योगदान है.

 

Conclusion

मुझे पूर्ण विश्वास है आपको ये पोस्ट Multimedia kya hai पसंद आया होगा. मीडिया से सम्बन्धी प्रश्नों का समाधान मिल गया होगा . मल्टीमीडिया क्या है  और इससे सम्बंधित जानकारी में अगर कुछ जानकारी अधूरी हो तो Please हमें Comment के माध्यम से जरुर बताये.

हम हर संभव सुधार के लिये आपके comment को पहले स्थान देंगे.

दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगे तो इसे आप अपने दोस्तों के साथ social Media के जरिये जरुर Share करे.   (धन्यवाद)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *